Acne Treatment

How to Get Rid of Acne (Pimples)


Acne (acne vulgaris, common acne) is a disease of the hair follicles of the face, chest, and back that affects almost all teenagers during puberty -- the only exception being members of a few primitive Neolithic tribes living in isolation. It is not caused by bacteria, although bacteria play a role in its development. It is not unusual for some women to develop acne in their mid- to late


Food: Parents often tell teens to avoid pizza, greasy and fried foods, and junk food. While these foods may not be good for overall health, they don't play an important causal role in acne. Although some recent studies have implicated a high-carbohydrate diet, milk, and pure chocolate in aggravating acne, these findings are far from established.


Dirt: Blackheads are oxidized oil, not dirt. Sweat does not cause acne and is produced by entirely separate glands in the skin. On the other hand, excessive washing can dry and irritate the skin.


Stress: Some people get so upset by their pimples that they pick at them and make them last longer. Stress, however, does not play much of a direct role in causing acne.


In occasional patients, the following may be contributing factors:


Heredity: If one of your parents had severe acne, it is likely that your acne will be more difficult to control.


Pressure: In some patients, pressure from helmets, chin straps, collars, suspenders, and the like can aggravate acne.




Drugs: Some medications may cause or worsen acne, such as those containing iodides, bromides, or oral or injected steroids (either the medically prescribed prednisone [Deltasone, Orasone, Prednicen-M, Liquid Pred] or the steroids that bodybuilders or athletes sometimes take). Other drugs that can cause or aggravate acne are anticonvulsant medications and lithium (Eskalith, Lithobid). Most cases of acne, however, are not drug related.


Occupations: In some jobs, exposure to industrial products like cutting oils may produce acne.


Cosmetics: Some cosmetics and skin care products are pore clogging ("comedogenic"). Of the many available brands of skin care products, it is important to read the list of ingredients and choose those which have water listed first or second if one is concerned about acne. These "water-based" products are usually best for those with acne.


What you need to know about acne


Acne is a chronic, inflammatory skin condition that causes spots and pimples, especially on the face, shoulders, back, neck, chest, and upper arms.

Whiteheads, blackheads, pimples, cysts, and nodules are all types of acne.


It is the most common skin condition in the United States, affecting up to 50 million Americans yearly.


It commonly occurs during puberty, when the sebaceous glands activate, but it can occur at any age. It is not dangerous, but it can leave skin scars.


The glands produce oil and are stimulated by male hormones produced by the adrenal glands in both males and females.




At least 85 percent of people in the U.S. experience acne between the ages of 12 and 24 years.


Fast facts on acne

Here are some facts about acne. More detail is in the main article.

Acne is a skin disease involving the oil glands at the base of hair follicles.

It affects 3 in every 4 people aged 11 to 30 years.

It is not dangerous, but it can leave skin scars.

Treatment depends on how severe and persistent it is.

Risk factors include genetics, the menstrual cycle, anxiety and stress, hot and humid climates, using oil-based makeup, and squeezing pimples.

Home remedies


Acne is a common skin problem.


There are many suggested home remedies for acne, but not all of them are supported by research.


Diet: It is unclear what role diet plays in worsening acne. Scientists have found that people who consume a diet that offers a good supply of vitamins A and E and of zinc may have a lower risk of severe acne. One review describes the link between acne and diet as "controversial," but suggests that a diet with a low glycemic load may help.


Tea-tree oil: Results of a study of 60 patients published in the Indian Journal of Dermatology, Venereology, and Leprology suggested that 5-percent tea-tree oil may help treat mild to moderate acne.


If you want to buy tea-tree oil, then there is an excellent selection online with thousands of customer reviews.


Tea: There is some evidence that polyphenols from tea, including green tea, applied in a topical preparation, may be beneficial in reducing sebum production and treating acne. However, the compounds in this case were extracted from tea, rather than using tea directly.


Moisturizers: These can soothe the skin, especially in people who are using acne treatment such as isotretinoin, say researchers. Moisturizers containing aloe vera at a concentration of at least 10 percent or witch hazel can have a soothing and possibly anti-inflammatory effect.


Causes

Human skin has pores that connect to oil glands under the skin. Follicles connect the glands to the pores. Follicles are small sacs that produce and secrete liquid.


The glands produce an oily liquid called sebum. Sebum carries dead skin cells through the follicles to the surface of the skin. A small hair grows through the follicle out of the skin.


Pimples grow when these follicles get blocked, and oil builds up under the skin.


Skin cells, sebum, and hair can clump together into a plug. This plug gets infected with bacteria, and swelling results. A pimple starts to develop when the plug begins to break down.


Propionibacterium acnes (P. acnes) is the name of the bacteria that live on the skin and contributes to the infection of pimples.


Research suggests that the severity and frequency of acne depend on the strain of bacteria. Not all acne bacteria trigger pimples. One strain helps to keep the skin pimple-free.


Hormonal factors

A range of factors triggers acne, but the main cause is thought to be a rise in androgen levels.


Androgen is a type of hormone, the levels of which rise when adolescence begins. In women, it gets converted into estrogen.


Rising androgen levels cause the oil glands under the skin to grow. The enlarged gland produces more sebum. Excessive sebum can break down cellular walls in the pores, causing bacteria to grow.


10 things to try when acne won’t clear


Do you feel you’ve tried just about everything to get rid of your acne but still see blemishes? Don’t despair. To see clearer skin, you probably just need to make some changes.


The following tips from dermatologists can help you get started.


Give an acne treatment at least 4 weeks to work. Using a new acne product every few days may seem useful, but that approach can worsen acne. Acne treatment needs time to work. Using a different product every few days can also irritate your skin, causing new breakouts.


If a treatment works for you, you should notice some improvement in 4 to 6 weeks. It can take 2 to 3 months or longer to see clearing.


If you notice improvement, keep using the treatment. Even when you see clearing, you'll want to keep using the acne treatment. This helps to prevent new breakouts.


Attack the different causes of acne. If you don’t see improvement after 4 to 6 weeks, add a second acne product to your treatment plan.


This approach can help attack the different causes of acne. Bacteria, clogged pores, oil, and inflammation can all cause acne.


Of course, the second treatment should attack a different cause of acne. For example, if you are using an acne treatment that contains benzoyl peroxide, the second acne treatment should contain another acne-fighting ingredient. To help you select another product, here’s what the different active ingredients work on:


Benzoyl peroxide decreases P. acnes bacteria

Retinoids, such as adapalene gel, unclog pores and reduce oiliness

Salicylic acid eases inflammation and unclogs pores


क्यों शुरू होती है एक्ने की प्रॉब्लम? बिना निशान कैसे करें इनका इलाज

एक्ने का आयुर्वेदिक उपचार : अपनी खूबसूरती को लेकर लड़कियां आजकल कुछ ज्यादा ही फिक्रमंद रहती हैं। प्रोफेशनल जमाने में यह बात बिल्कुल सही भी है क्योंकि पहली मुलाकात में किसी को आकर्षित करना हो तो लुक बहुत अहमियत रखती है। वहीं, चेहरे पर अलग कोई एक्ने यानि मुहांसे हो जाए तो परेशानी और भी बढ़ जाती है क्योंकि त्वचा पर यह काले निशान छोड़ देते हैं। यह भद्दे निशान चेहरे की रंगत को बिगाड़ देते हैं। इस समस्या से 


छुटकारा पाने के लिए यह जानना जरूरी है कि आखिर क्या है एक्ने?

1. क्या है एक्ने?


एक्ने को एक्ने वल्गारिस (Acne Vulgaris) भी कहा जाता है। त्वचा के फॉलिक्लस के निचले हिस्से में तैलिय ग्रंथी मुंहासों का कारण बनते हैं। स्किन पर छोटे-छोटे रोमछिद्र तैलीय ग्रंथियों के फॉलिक्स के साथ जुड़े होते हैं। इन तैलीय ग्रंथियों से सीबम नाम का एक ऑयली लिक्विड निकलता है जिससे डैड स्किन सेल त्वचा के ऊपरी हिस्सों पर आ जाते हैं। जो लाल दानों के रूप में ऊभर जाते हैं, समस्या ज्यादा बढ़ने पर पोर्स ऑयली होकर ब्लॉक हो जाते हैं। जिससे यह बैक्टीरिया एक्ने का रूप ले लेते हैं।


एक्ने की प्रकार

मुहांसे शरीर के किसी भी हिस्से पर हो सकते हैं। ज्यादातर चेहरे, गर्दन,पीठ और छाती पर एक्ने निकलने की संभावना होती है और इसके कई प्रकार हैं।


सिंपल मुहांसे


काले और सफेद रंग के ये मुंहासे तिल की तरह होते हैं। जब त्वचा की तैलीय ग्रंथियां बंद होनी शुरू हो जाए तब इस तरह के मुंहासे ऊभरने लगते हैं।


मध्यम मुहांसे


इस तरह के मुहांसे समूह के रूप में होते हैं। एक साथ ही 10-20 मुहांसे निकल जाए तो इसे मध्यम मुहांसे कहा जाता है।


कठोर मुहांसे


इस तरह के एक्ने नॉर्मल नहीं होते, इनमें मवाद बहुत ज्यादा भर जाता है। छूने पर भी ये कठोर लगते हैं। इसके अंदर और चारों तरफ सीस्ट का निर्माण होता है जो स्किन की  गहराई तक चले जाते हैं। अनदेखी करने पर इनसे राहत पाने में बहुत परेशानी होती है। जल्दी इलाज शुरू करने से त्वचा साफ हो जाती है।


एक्ने का इलाज


एक्ने का सही समय पर इलाज न करने से बाद में परेशानी बढ़ सकती है। इंफैक्शन और सूजन आने के कारण त्वचा पर काले और भद्दे निशान भी पड़ने शुरू हो जाते हैं। इनसे छुटकारा पाने के लिए कई तरह के उपचार इस्तेमाल किए जा सकते हैं।


आजकल कई तरह के क्रीम, जेल और फेस क्लींजर आसानी से मिल जाते हैं। इनका इस्तेमाल करने से पहले स्किन स्पैशलिस्ट से सलाह लेना बहुत जरूरी है। स्किन पर सूट करती क्रीम लगाने से मुहांसों से छुटकारा मिल जाता है। यह मुहांसों का सामयिक इलाज है।


स्किन प्रॉब्लम से छुटकारा पाने के लिए एंटीबायोटिक इलाज भी खूब प्रचलित है। इसमें दवाइयों के जरिए बैक्टीरियल इंफैक्शन को दूर किया जाता है।


एक्ने होने का मुख्य कारण हार्मोण का असंतुलन है। दवाइयों के जरिए इस गड़बड़ी को कंट्रोल किया जाता है। इसका इलाज एक्सपर्ट के द्वारा ही करवाएं।


कुछ लोगों पर मुहांसो के कारण बहुत से दाग-धब्बे पड़ जाते हैं। जिससे स्किन भद्दी लगने लगती है। इस परेशानी से राहत पाने के लिए कुछ लोग सर्जरी का सहारा भी लेते हैं लेकिन इसका इस्तेमाल करना जरूरी नहीं होता। कई बार इससे नुकसान भी हो सकता है।


मुँहासे क्या है?


चिकित्सा शर्तों में एक्ने वाल्गारिस है जो मुख्य रूप से तेल ग्रंथियों से संबंधित होता है, यह बालों के रोम के आधार पर पाए जाते हैं। किशोरावस्था में यह सबसे आम होते है जब ये ग्रंथियां काम करना शुरू कर देती हैं। दोनों लिंगों के एड्रेनल ग्रंथियों द्वारा गुप्त पुरुष हार्मोन से प्राप्त उत्तेजना के कारण ग्रंथियां सक्रिय हो जाती हैं।


यह प्रति खतरनाक स्थिति नहीं है लेकिन त्वचा को संभावित रूप से खराब कर सकती है, जो कि तंग किशोरावस्था में घृणा की स्थिति है। तेल या मलबेदार ग्रंथियां त्वचा के नीचे स्थित होती हैं और यह छिद्रों या छोटे छेद वाले छोटे छेद के माध्यम से मानव त्वचा से जुड़ी होती है। ग्रंथि द्वारा उत्पादित सेबम या तेल का कार्य त्वचा की सतह पर मृत त्वचा कोशिकाओं को ले जाना है। यह कूप अवरुद्ध होने के लिए अतिसंवेदनशील हैं।


मुँहासे आमतौर पर चेहरे, गर्दन, कंधे, पीठ और मनुष्यों में छाती पर पाए जाते हैं। एक त्वचा बनाने के लिए त्वचा कोशिकाओं, तेल सेबम और बाल एक साथ चिपकते हैं। समय में प्लग बैक्टीरिया की उपस्थिति के कारण संक्रमित हो जाता है जिसके परिणामस्वरूप सूजन हो जाती है। प्लग टूटना शुरू होता है और एक मुँहासे विकसित होता है।


मुँहासे का कारण क्या है?


मुँहासे के बारे में ध्यान देने योग्य एक दिलचस्प बात यह है कि यह निश्चित रूप से नहीं बताया जा सकता कि इसका कारण क्या है। विशेषज्ञों के मुताबिक, हार्मोन एंड्रोजन वह अपराधी है जो युवावस्था के दौरान बढ़ता है जो बदले में त्वचा ग्रंथियों के विकास की ओर जाता है जिसके परिणामस्वरूप अत्यधिक सेबम होता है। यह सेबम तब छिद्रों की सेलुलर दीवार को तोड़ देता है जो जीवाणु विकास को सक्षम बनाता है।


कुछ अध्ययनों के मुताबिक आनुवंशिक प्रवृत्ति का एक तत्व भी है। लिथियम और एंड्रोजन के साथ दवा भी स्थिति का कारण बन सकती है। चीकनाहट भी एक और कारण हैं। प्रेगनेंसी से संबंधित हार्मोनल परिवर्तन से भी मुँहासे हो सकते है।


मुँहासे के विभिन्न प्रकार क्या हैं?


मुँहासे के मुंह विभिन्न प्रकार के हो सकते हैं। इसमें शामिल है:


व्हाइटहेड्स- ये बहुत छोटे होते हैं और आमतौर पर त्वचा के नीचे मौजूद होते हैं।


ब्लैकहेड- ब्लैकहेड स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है। वे रंग में काले और त्वचा की सतह पर अपनी उपस्थिति बनाते हैं। यह एक गलतफहमी है कि ब्लैकहेड गंदगी के कारण होते हैं और आपके चेहरे को गंदा करने के साथ स्क्रब करते हैं।


पैप्युल्स- पैप्युल्स त्वचा की सतह पर आमतौर पर गुलाबी रंग में छोटे बाधा हैं।


पस्ट्यूल- आसानी से त्वचा की सतह पर पस्ट्यूल की पहचान की जा सकती है। उनके पास पस से भरा शीर्ष वाला लाल आधार है।


नोबल्स- त्वचा की सतह पर नोबुल भी खड़े हो जाते हैं। वे ठोस, बड़े मुँहासे होते हैं। वे अक्सर दर्द के साथ होते हैं और त्वचा की गहराई में एम्बेडेड होते हैं।


सीस्ट- ये त्वचा की सतह पर दिखाई दे रहे हैं। वे आमतौर पर दर्दनाक होते हैं और पस भर जाते हैं। वे निशान पैदा करने के लिए प्रवण हैं।


लक्षण


व्हाइटहेड्स (बंद छिद्रित छिद्र)

ब्लैकहेड (खुली छिद्रित छिद्र)

छोटे लाल, टेंडर बम्प

इलाज: ठीक नहीं किया जा सकता है, लेकिन उपचार मदद करता है




Related Products


Out Of Stock
According to the Ayurveda the Acne are caused due to contamination in kaph, bile and blood. Skin inf...
SKU:
#5-p0000027
Vendor:
Vendor 3
Type:
Type 3
Availability:
In-Stock
₹115.00

Leave a comment


Please login to leave a comment
Safe Payment

Pay with the world's most popular and secure payment methods.

All INDIA Delivery

We ship to over 26000+ Pin Codes in INDIA.

24/7 Help Center

Round-the-clock assistance for a smooth shopping experience.

Daily Promotion

Get best deals every day. Check out Todays Deal