Diabetes Treatment

Diabetes Treatment

Simple Ways to Lower Blood Sugar Levels Naturally




1. Exercise Regularly


Normal exercise can enable you to get more fit and increment insulin affectability.

Expanded insulin affectability implies your cells are better ready to utilize the accessible sugar in your circulation system.

Exercise additionally enables your muscles to utilize glucose for vitality and muscle constriction.

On the off chance that you have issues with glucose control, you ought to routinely check your levels. This will enable you to figure out how you react to various exercises and keep your glucose levels from getting either excessively high or excessively low

Great types of activity incorporate weight lifting, lively strolling, running, biking, moving, climbing, swimming and that's just the beginning.

2. Control Your Carb Intake

Your body separates carbs into sugars (for the most part glucose), and afterward insulin moves the sugars into cells.

When you eat too numerous carbs or have issues with insulin work, this procedure falls flat and blood glucose levels rise.

Notwithstanding, there are a few things you can do about this.

The American Diabetes Association (ADA) suggests controlling carb admission by checking carbs or utilizing a nourishment trade framework.

A few investigations find that these strategies can likewise enable you to design your suppers properly, which may further improve glucose control

Numerous investigations likewise demonstrate that a low-carb diet decreases glucose levels and avert glucose spikes

3. Increment Your Fiber Intake

Fiber eases back carb assimilation and sugar ingestion. Therefore, it advances a progressively steady ascent in glucose levels.

Besides, the sort of fiber you eat may assume a job.

There are two sorts of fiber: insoluble and solvent. While both are significant, dissolvable fiber explicitly has been appeared to lower glucose levels.

Furthermore, a high-fiber diet can help oversee type 1 diabetes by improving glucose control and lessening glucose lows

Nourishments that are high in fiber incorporate vegetables, natural products, vegetables and entire grains.

The prescribed every day admission of fiber is around 25 grams for ladies and 38 grams for men. That is around 14 grams for each 1,000 calories

4. Drink Water and Stay Hydrated

Drinking enough water may enable you to keep your glucose levels inside sound points of confinement.

Notwithstanding anticipating parchedness, it helps your kidneys flush out the abundance glucose through pee.

One observational examination demonstrated that the individuals who drank more water had a lower danger of growing high glucose levels .

Drinking water routinely re-hydrates the blood, brings down glucose levels and decreases diabetes chance

Remember that water and other non-caloric drinks are ideal. Sugar-improved beverages raise blood glucose, drive weight addition and increment diabetes hazard

5. Execute Portion Control

Bit control directs calorie consumption and can prompt weight reduction .

Therefore, controlling your weight advances solid glucose levels and has been appeared to lessen the danger of creating type 2 diabetes

Checking your serving sizes likewise diminishes calorie admission and resulting glucose spikes

The High Blood Sugar Levels Can Be Normalized

The glucose levels in the human blood do increment because of a few variables. Such augmentations are in charge of different kinds of anomalous conduct of the human body. This kind of turmoil has been expanding because of way of life factors, for example, nourishment propensities, feelings of anxiety, and so forth. The scientists couldn't concoct any drug to fix the confusion yet!. The change of way of life can switch the turmoil.

Devouring natural nourishments is one of the most significant strides to control the expanding blood glucose levels. The dim hued vegetables are profoundly useful. The patients need to take nourishments wealthy in fiber and proteins. Among the organic products, its instructed to maintain a strategic distance from the extreme utilization with respect to mango, banana, sapota, and so on which do contain over the top measures of sugar. The green verdant vegetables, severe gourd, brinjal, and so on should be devoured ordinary. Moving to the utilization of dark colored rice from white rice is imperative in controlling the above said issue. Entire wheat bread, oats, cooked vegetables, bubbled eggs, nuts, plates of mixed greens, and so on should be taken as a break quick.

The side effects are variable from individual to individual contingent on a few organic components. Be that as it may, the general indications of high glucose levels incorporate, visit pee particularly during the evenings, dry mouth, extreme thirst, and so on. In certain patients, the side effects can't show up, henceforth incidental glucose analysis is the best way to know the status of one's glucose levels. In the underlying phases of the confusion, its optimal to maintain a strategic distance from utilization of any medications. Physical exercise, modification of nourishment propensities, and so on can bring the glucose levels to ordinary range!. However, the uncontrolled high glucose levels will harm a few organs, for example, the eyes, heart, kidneys, and so forth. The harm caused depends upon a few factors and is variable from individual to individual. The rich individuals can manage the cost of costly nourishments, for example, eggs, vegetables, organic products, and so on.


For the needy individuals there are some straightforward home solutions for control the expanding glucose levels in the blood. Decrease of weight is perhaps the best cure. stoutness is one of the real reasons for a few way of life ailments. The neem leaves ought to be bubbled for around twenty minutes, and after that sifted to be expended regularly for about seven days relying on the sugar levels. Additionally, fenugreek ought to be splashed for the duration of the night, and can be taken with void stomach promptly in the first part of the day. Utilization of millets also is prompted. The significant cure is to change the way of life.

डायबिटीज में क्या खाए और क्या नहीं-31 टिप्स-Diabetic Diet

Diabetes Diet Hindi

Diabetic Diet Plan के अनुसार क्या खाना चाहिए 


Diabetic Diet में ज्यादा फाइबर युक्त भोजन -जैसे छिलके सहित पूरी तरह से बनी हुई गेहूं की रोटी, जई (Oats) इत्यादि जैसे जटिल कार्बोहाइड्रेट शामिल होनी चाहिए, क्योंकि वे खून के प्रवाह में धीरे-धीरे मिल जाते हैं। इस प्रकार इन्सुलिन उत्पादित ग्लूकोस का बेहतर ढंग से सामना कर सकती है।

गेहूं और जौ 2-2 किलो की मात्रा में लेकर एक किलो चने के साथ पिसवा लें। ऐसे चोकर सहित आटे की बनी चपातियां भोजन में खाएं। इसे अपने Diabetic Diet में अवश्य शामिल करें |

Diabetic Diet के अंतर्गत सब्जियों में करेला, मेथी, सहजन , पालक, तुरई, शलगम, बैंगन, टिंडा, चौलाई, परवल, लौकी, मूली, फूलगोभी, बेलपत्र, ब्रोकली, टमाटर, बंदगोभी, Tofu, सोयाबीन की मंगौड़ी, जौ, बंगाली चना, पुदीना, हल्दी, काला चना, दालचीनी, फलीदार सब्जियां जैसे बीन्स, सैम फली, शिमला मिर्च, हरी पत्तेदार सब्ज़ियां शामिल करें तथा इन सब्जियों से बने पतले सूपों का जितना चाहें उतना सेवन करें।

तुलसी के बीज, जैतून का तेल (Olive oil),अलसी, बादाम का भी बेहिचक सेवन करें |

मधुमेह में फल – फलों में जामुन, नींबू, आंवला, टमाटर, पपीता, सिंघाड़ा, खरबूजा , कच्चा अमरुद, संतरा, मौसमी, ककड़ी ,चुकन्दर , मीठा नीम, बेल का फल, जायफल तथा नाशपाती को शामिल करें। आम ,पका केला ,सेब, खजूर तथा अंगूर में शुगर होता है, लेकिन क्योंकि फलों में फाइबर ज्यादा होता है इसलिए ये अच्छे शुगर की केटेगरी में आते है | जिनको हाई लेवल मधुमेह नहीं है वो इनको कम मात्रा में ले सकते है| इनका जूस बिल्कुल ना पियें क्योंकि उससे फाइबर निकल जाते है | अधिक पके हुए फलों में अधिक शुगर होता है इसलिए कच्चे फलों का ज्यादा सेवन करें | आम की पत्तियों का सेवन भी लाभकारी है, इसके लिए 15-16 पत्तियों को एक कप पानी में उबाल लें और छान कर पियें |

ठीक इसी प्रकार हरे केले के छिलकों का प्रयोग भी Diabetic Diet में किया जा सकता है |

मेथी दाना (बीज) 25 से 100 ग्राम तक प्रतिदिन सुबह खाली पेट या सब्जी बनाकर, आटे में मिलाकर अथवा दाल के साथ नियमित रूप से खाएं।


मक्खन एवं पनीर के बजाय नमक के पानी में डिब्बाबंद मशरूम, Salmon Fish, Tuna Fish के साथ उबले आलू का उपयोग करें। अगर आप मांसाहारी है तो मछली और मछली का तेल सिमित मात्रा में प्रयोग कर सकते हैं | लेकिन यह सावधानी रखें की मछली को तेल में फ्राई करने की बजाय भून कर, पकाकर या सेंक कर खाएं | मछली में फैट होता है |

एक सही Diabetic Diet के अनुसार भुने हुए खाने या उबले हुए भोजन को प्राथमिकता दें, भून कर खाने से आहार जल्दी ही पच जाता है | भुने हुए खाने में वसा कार्बोहाइड्रेट भी कम होती है | यदि संभव हो तो सब्जियों को बजाय तड़का लगाने और तरीदार बनाकर खाने के केवल नमक लगाकर भूनकर सब्जियों का सेवन करें |

खाने से पहले एक कटोरी सलाद जरुर लें।

Diabetic Diet में बादाम, चना दाल, लहसुन, प्याज, अंकुरित दाले, अंकुरित छिलके वाला चना , सत्तू,  बाजरा आदि शामिल करे |

कमजोरी दूर करने के लिए हरा कच्चा नारियल, अखरोट, मूंगफली के दाने, काजू, इसबगोल, सोयाबीन, मटन का सूप, दही, छाछ का सेवन करें।

इंसुलिन के बनने में क्रोमियम की कमी से रुकावट आती है। इसलिए इसकी कमी को पूरी करने के लिए फूलगोभी, मशरूम, चोकर सहित खड़े अनाज, खमीर, सूखे मेवे यानि ड्राई फ्रूट्स अधिक खाएं और दालचीनी (cinnamon), अजमोद का भी सेवन करें।

फलों का ताज़ा जूस न पीए इसकी बजाय फल खाएं क्योकि उसमे ज्यादा फाइबर होता है !

मधुमेह से ग्रस्त रोगियों को अधिकतर ताजी, हरी सब्जियां खानी चाहिए । प्रत्येक भोजन के साथ सलाद जरुर लेना चाहिए । खाने में आधिक मात्रा में फल एवं सब्जियां लेने से शरीर में अधिक पानी पहुंचता है। पानी की भरपूर मात्रा गुर्दों एवं यूरिन उत्सर्जन तंत्र के लिए आवश्यक है ।

Diabetic Diet में एलोवेरा को भी अवश्य शामिल करें | यहाँ पढ़ें – रेसेपी 

भोजन एक बार में न कर थोड़ी-थोड़ी मात्रा में 4-5 बार करें।

किसी भी समय का भोजन न छोड़ें तीन बार बराबर-बराबर भोजन ले और यदि आवश्यकता हो तो शाम को हल्का नाश्ता ले

ग्रीन टी का सेवन भी मधुमेह में बहुत लाभकारी है क्योंकि इसमें मौजूद Antioxidants Vitamin C और E से भी बेहतर होते हैं | ग्रीन टी और काली चाय दोनों का ही सेवन बिना दूध और चीनी के करने से और ज्यादा लाभ मिलेगा |

भोजन ठीक से चबा चबाकर खाएं, फ़ूड विशेषज्ञ इस बात की सलाह देते हैं कि, प्रत्येक खाने का ग्रास पंद्रह बार चबाया जाना चाहिए |

ख़ाली पेट न रहें और लिए जाने वाले भोजन की कुल मात्रा में कमी लाएं एवं नियमित रूप से व्यायाम करें।

यदि आप अपनी सीमा से ज़्यादा खा लेते हैं तो अगले समय के भोजन में थोडा कम खाए |

आप Diabetic Diet में शहद और गाजर को कम मात्रा में शामिल कर सकते है क्योकि ये “Good Sugar Substitutes” श्रेणी में आते है | लेकिन इसके लिए अपने चिकित्सक से

परामर्श अवश्य लें क्योंकि यह डायबिटीज के विभिन्न टाइप पर निर्भर करता है Diabetic Diet में मक्की या मकई (कॉर्नफ्लैक्स) शामिल की जा सकती है परंतु याद रखें कि यह एक साधारण कार्बोहाइड्रेट है । आप मकई को ओटमील या फलों के साथ खा सकते हैं। यदि आप मक्का की रोटी खाना चाहते हैं तो उसमें हरी पत्तेदार सब्जियां, प्याज, टमाटर तथा गाजर को भरकर खाएं और घी बिलकुल ना लगायें | मक्की की रोटी तथा सरसों का

साग खाया जा सकता है पर साथ में सलाद अवश्य लें ।

तरबूज में फैट और कोलेस्ट्रॉल दोनों ही नहीं होते है बल्कि इसमें मौजूद पोटाशियम मांसपेशियों को ठीक से काम करने में मदद करता है |

डायबिटीज के रोगी आटे में 25 ग्राम अलसी पीसकर आटा गूंथकर रोटी बनायें। अलसी शुगर को को नियन्त्रित रखती है। डायबिटीज से शरीर के अंगो पर होने वाले साइड इफ़ेक्ट को कम करती है। डायबिटीज के रोगी को डॉक्टर कम चीनी और ज्यादा रेशा लेने को कहते हैं। रोगी की रोटी में 30-30 ग्राम ताजा पिसी अलसी आटे में मिलाकर दोनों समय दें तो शुगर कम व रेशा ज्यादा मिलेगा। अलसी व गेहूँ के मिलेजुले आटे में 50% कार्बन, 16% प्रोटीन व 20% रेशा होता है।

ठीक इसी प्रकार मधुमेह में गुड़ को लेकर अक्सर लोगो में शंका बनी रहती है | डायबिटीज में गुड खाने की सलाह नहीं दी जाती है लेकिन Glycemic Index के अनुसार गुड निश्चित रूप से Refined Sugar यानि चीनी से बेहतर होता है | लेकिन इसको आप अपनी डाइट में कितनी मात्रा शामिल कर सकते हैं ? या शामिल कर भी सकते हैं या नही ? यह आपके शुगर लेवल, डाइट चार्ट और आपकी कैलोरी की जरुरत पर निर्भर करता है | जो निश्चित रूप से सभी के लिए अलग- अलग होता है | वैसे आपके डॉक्टर आपको गुड लेने की सलाह दें तो तिल और गुड मिलाकर खाना बेहतर होता है |

डायबिटीज़ का असर शरीर के किन हिस्सों पर पड़ता है?

1. आंख

हाइपरग्लाइसीमिया होने पर शुरुआत में नज़रें धुंधली हो सकती है और अगर इस पर ध्यान न दिया जाए, तो आगे चलकर कैटरेक्ट (मोतियाबिंद ) होने के आसार होते हैं. आंख को प्रभावित करने वाली इस गंभीर स्थिति को डायबिटिक रेटिनोपैथी कहते हैं. इसमें आंखों के रेटिना ख़राब होने लगते हैं और कुछ गंभीर मामलों में आंखों की पूरी रोशनी भी जा सकती है. टाइप 2 डायबिटीज़ से प्रभावित 20% से 40% लोगों में डायबिटिक रेटिनोपैथी की शिकायत होती है.

इलाज और बचाव:

अगर आप नियमित तौर पर आंखों की जांच करवाते हैं, तो ज़्यादातर समस्याओं का पता एकदम शुरूआत में ही लग सकता है. इसका इलाज फ़ोटोकोएगुलेशन या सर्ज़री से किया जाता है. आंखों से जुड़ी तकलीफ़ों से बचने के लिए शुगर लेवल का संतुलन और ब्लड प्रेशर का सही प्रबंधन ज़रूरी है.

2. त्वचा

डायबिटीज़ में स्किन इंफ़ेक्शन यानी त्वचा से जुड़ा संक्रमण होना काफ़ी आम है, जिसे सबसे ज़्यादा अनदेखा किया जाता है. डायबिटीज़ से प्रभावित 30% लोगों में त्वचा संक्रमण (बैक्टीरियल/फ़ंगल)(2) होता है जिसमें शुष्क त्वचा, स्किन टैग्स (त्वचा में उभार) और काले चकत्ते पड़ना (जिसे हम सेबोरिक केरेटोसिस के नाम से भी जानते हैं) शामिल हैं.  

जानें, डायबिटीज़ से जुड़ी अनजान बीमारियों के शुरूआती लक्षण

इलाज और बचाव:

नहाते समय त्वचा में किसी भी तरह के बदलाव पर ध्यान दें और शुरुआत में ही इसके इलाज के लिए डॉक्टर से मिलें. लंबे समय से डायबिटीज़ होने की वजह से आपके हाथों-पैरों की संवेदनशीलता कम होने लगती हैं, इसलिए इसे अनदेखा न करें और जांच ज़रूर कराएं. ब्लड शुगर पर ध्यान देने और सफ़ाई बरतने से त्वचा संबंधी समस्या से लंबे समय तक बचा जा सकता है.

3. किडनी

किडनी से जुड़ी बीमारियों के पीछे डायबिटीज़ मुख्य वजह है, खास तौर पर किडनी के फ़ेल होने के मामलों में. टाइप 2 डायबिटीज़ से प्रभावित 7% लोगों में डायबिटीज़ की पहचान होने से पहले ही किडनी की बीमारी के शुरुआत का पता चल जाता है. हाई कोलेस्ट्रॉल, हाई ट्राइग्लिसराइड और लो एचडीएल को इनके पीछे खास तौर पर ज़िम्मेदार पाया गया है.

इलाज और बचाव:

नियमित जांच (जैसे कि, प्रोटीन के लिए पेशाब की जांच) से शुरुआत में ही इसकी पहचान करने में मदद मिलती है. अच्छे खान-पान और एक्सरसाइज़ से कोलेस्ट्रॉल के लेवल (लिपिड प्रोफ़ाइल) को सही किया जा सकता है. अगर आप स्मोकिंग (धूम्रपान) से बचते हैं, तो किडनी में ख़ून के फ़्लो को सही बनाए रखने में मदद मिलती है. जानें किडनी की बीमारियों से बचने के नुस्खे.

4. ह्रदय और खून की नसें

हाइपरग्लाइसिमिया के साथ ही, मधुमेह ग्रस्त लोगों में हाई कोलेस्ट्रॉल और/या हाई ब्लड प्रेशर होने की संभावना होती है. ऐसे में ख़ून की नसें सख्त़ हो सकती हैं, जिससे हार्ट अटैक (दिल का दौरा) या दिल से जुड़ी दूसरी तकलीफ़ें या स्ट्रोक हो सकता है. जिन्हें डायबिटीज़ नहीं उनके मुक़ाबले डायबिटीज़ वाले लोगों में स्ट्रोक का ख़तरा ज़्यादा होता है.पैरों और नर्व्स में खून का फ़्लो कम होने से नरवर सिस्टम पर असर पड़ता है.

Diabetes Diet: कम फैट और कैलोरी के लिए खाने में शामिल करें खीरा

एक हेल्दी डाइट डायबिटीज जैसी पुरानी बीमारी से निपटने के लिए मददगार साबित हो सकती है. लोगों में डायबिटीज (Diabetes) की बीमारी होने की दर लगातार बढ़ती ही जा रही है. इस बीमारी को कुछ सावधानियां बरतकर कम कंट्रोल किया जा सकता है. डायबिटीज में लो ब्लड ब्लड शुगर को ठीक कर इस बामारी से निपटा जा सकता है. अगर आपको खुद में डायबिटीज के लेवल के बढ़ने के लक्षण दिख रहे हैं तो तुरंत ही डॉक्टर से सलाह लें. कई लोग डायबिटीज में क्या खाएँ इसको लेकर काफी परेशान रहते हैं अपनी डायबिटीज डाइट में क्या करें शामिल की जिससे आप स्वस्थ हो सकते हैं. खीरा डायबिटीज डाइट में एक एडिशनल डाइट के रूप में ली जा सकती है. खीरा में काफी मात्रा में पानी और कम कैलोरी होती हैं. साथ ही इसमें हाई फाइबर भी होता है, जो कार्बोहाइड्रेट और चीनी की मात्रा को कंट्रोल करने में मदद करता है. सबसे बड़ी बात यह है कि खीरे में कार्बोहाइड्रेट की मात्र भी कम होती है. जो डाइबिटीज डाइट में एक जरूरी हिस्सा है. खीरा (Cucumber) में महत्वपूर्ण विटामिन और खनिज उच्च मात्रा में पाए जाते हैं. जानें खीरा खाने से डायबिटीज में कैसे फायदा लिया जा सकता है.

खीरे का सूप (Cucumber Soup):

सर्दी में गर्म सूप पौष्टिक खाने में गिने जाते हैं. क्योंकि किसी भी चीज को बिना पकाये खाने से उसके न्यू्ट्रिशन खत्म नहीं होते हैं. ऐसे में प्याज, टमाटर और चिकन को एक साथ खीरे को मिक्स कर लें और डिनर के लिए इस मजेदार सूप का आनंद लें.

खीरे का रायता (Cucumber Raita):

रायता दही के साथ बनाया जाता है, जिसे लोग हर तरह के खाने में शामिल करते हैं. रायते में खीरा या बूंदी, वेजी को कद्दूकस करके नमक, जीरा पाउडर और काली मिर्च के साथ बनाकर तैयार करें और किसी भी समय अपने खाने में शामिल कर सकते हैं. 

खीरे का सैंडविच (Cucumber Sandwich): 

कटी हुआ खीरा, प्याज, टमाटर और धनिया पत्ती को मिक्स कर ब्रेड टोस्ट बनाकर सुबह नाश्ते में खाया जा सकता है. कई लोग नाश्ते को अलग बनाने के लिए खीरे का सैंडविच बनाते हैं. 

खीरे का सलाद (cucumber salad) :

सलाद एक पोष्टिक खाना है जिसे हम ज्यादातर नमकीन खाने के साथ लेना पसंद करते हैं. स्वादिष्ट सलाद बनाने के लिए खीरे को छोटे टुकड़ों में काटें और पसंदीदा खाने में शामिल करें. इसमें खीरा, प्याज, उबले हुए छोले, सलाद पत्ता और फल जैसे अनार या जामुन के साथ भी बनाया जा सकता है.










Related Products


Dabur Madhu Rakshak 250 gm combo of 3 packs :-Dabur Madhu Rakshak is a combination of anti-diabetic,...
SKU:
#5-p16328
Vendor:
Vendor 3
Type:
Type 3
Availability:
In-Stock
₹1,110.00
₹505.00
BGR-34 Tablet: BGR-34 is scientifically proven Anti-diabetic formulation. It is 100% effective for s...
SKU:
#5-p100002
Vendor:
Vendor 3
Type:
Type 3
Availability:
In-Stock
₹505.00

Leave a comment


Please login to leave a comment
Safe Payment

Pay with the world's most popular and secure payment methods.

All INDIA Delivery

We ship to over 26000+ Pin Codes in INDIA.

24/7 Help Center

Round-the-clock assistance for a smooth shopping experience.

Daily Promotion

Get best deals every day. Check out Todays Deal