मोतियाबिंद की जानकारी

मोतियाबिंद: 3 सामान्य प्रकार, कारण, लक्षण और उसके उपचार


मोतियाबिंद: 3 सामान्य कारण और लक्षण :
मोतियाबिंद जिसे हम सफेद मोतिया भी कहते हैं, जिसमे आंख के प्राकृतिक पारदर्शी लेंस का धुंधलापन हो जाता है। यह 40 वर्ष से अधिक आयु के लोगों में दृष्टि हानि का सबसे आम कारण है और दुनिया में आँख की दृष्टि खो देना अथवा दृष्टिविहीनता का प्रमुख कारण भी है ।


मोतियाबिंद जो निम्न प्रकारों में शामिल हैं :

• सबसैप्सुलर (उप-सम्पुटी) मोतियाबिंद जो की लेंस के पीछे की तरफ होता है । मधुमेह वाले लोग या स्टेरॉयड दवाओं की उच्च खुराक लेने वाले लोगों में एक उप-कोशिकीय मोतियाबिंद विकसित होने का अधिक खतरा होता है ।

• न्यूक्लियर मोतियाबिंद लेंस के केंद्रीय क्षेत्र (नाभिक) में होता है । न्यूक्लियर मोतियाबिंद आमतौर पर उम्र बढ़ने के साथ संभंधित हैं ।

• कॉर्टिकल मोतियाबिंद की विशेषता सफेद,कील जैसी ओपेसिटी होती है जो लेंस की परिधि में शुरू होती है और धीरे धीरे केंद्र की तरफ बढ़ती है । जैसे कि एक पहिये का आरा ।

मोतियाबिंद के लक्षण और संकेत
प्रारंभ में, मोतियाबिंद का आपकी दृष्टि पर बहुत कम प्रभाव डालता है । आपको महसूस होते रहता हैं कि आपकी दृष्टि थोड़ी-थोड़ी करके धुंधली होती जा रही है, जैसे धुंधले  कांच के  टुकड़े या एक इंप्रेशनिस्ट पेंटिंग को देखने से होता है।


अस्पष्टता , धुंधली दृष्टि का मतलब हो सकता है कि आपके नेत्र में मोतियाबिंद हो गया है ।

एक मोतियाबिंद सूरज या एक दीपक के प्रकाश को बहुत चमकदार या चौंधानेवाला प्रकाश बना सकता है । या जब आप रात को गाड़ी चलाते हैं, तो आप देख सकते हैं कि सामने से आने वाली हेडलाइट्स पहले की तुलना में अधिक चमकदार महसूस हो रही है । रंग उतने चमकीले नहीं दिखाई पड़ते हैं जितने पहले दिखाई पड़ते थे ।

आपके नेत्र में मोतियाबिंद का प्रकार वास्तव में प्रभावित करेगा कि आप किन लक्षणों का अनुभव करते हैं और कितनी जल्दी वे घटित होंगे । जब पहली बार न्यूक्लियर मोतियाबिंद पनप रहा होता है, तो यह आपके निकट दृष्टि में एक अस्थायी सुधार ला सकता है, जिसे हम "दूसरी दृष्टि" कहते हैं ।

दुर्भाग्य से, बेहतर नेत्र की दृष्टि शॉर्टलिव्ड (अल्पकालिक) है और मोतियाबिंद के बिगड़ने पर रोशनी  गायब हो सकती है ।

दूसरी ओर, एक सब्कैप्सूलर (उप-सम्पुटी) मोतियाबिंद किसी भी लक्षण को प्रोड्यूस नहीं कर सकता जब तक कि यह अच्छी तरह से विकसित न हो जाय ।

यदि आपको लगता है कि आपके नेत्र में मोतियाबिंद हो गया है, तो इसकी जांच के लिए एक नेत्र चिकित्सक  के पास  जाकर मिले  और सलाह लें ।  

मोतियाबिंद किन कारणों से होता है ?
आंख के अंदर का लेंस कैमरा लेंस की तरह काम करता है, जो स्पष्ट दृष्टि के लिए रेटिना (दृष्टिपटल) पर प्रकाश केंद्रित करता है । यह आंख के फोकस को भी एडजस्ट (समायोजित) करता है, जिससे हम सभी चीजों को स्पष्ट रूप से नजदीक और दूर दोनों तरह से देख सकते हैं ।

लेंस ज्यादातर पानी और प्रोटीन से बना होता है । प्रोटीन को एक सटीक तरीके से व्यवस्थित किया जाता है जो लेंस को पारदर्शी रखता है और इसके माध्यम से प्रकाश गुजरता है ।

लेकिन हमारे उम्र के के साथ साथ, कुछ ऐसे प्रोटीन जो एक साथ गुच्छन हो जाता है  और लेंस के एक छोटे से हिस्से को बदलना शुरू कर सकते हैं । यही एक मोतियाबिंद है, और समय के साथ साथ, यह बड़ा हो सकता है और लेंस से अधिक धुंधला देखने की स्थिति में कठिनाई उत्पन्न कर सकता है ।

कोई भी निश्चित रूप से नहीं जानता है कि क्यों हमारी उम्र बढ्ने के साथ साथ आंख के लेंस मैं भी  बदलाव आते  रहते हैं और मोतियाबिंद को बनाते हैं । लेकिन दुनिया भर के शोधकर्ताओं ने ऐसे कारकों की पहचान की है जो मोतियाबिंद का कारण हो सकते हैं या मोतियाबिंद के विकास से जुड़े हैं । उम्र बढ़ने के अलावा, मोतियाबिंद के कई जोखिम वाले कारकों में शामिल हैं :


॰ सूर्य के प्रकाश और अन्य स्रोतों से अल्ट्रावाइओलेट रेडिएशन (पराबैंगनी विकिरण)

• डाईबिटीज़ (मधुमेह)

• हाइपरटेंशन (उच्च रक्तचाप)

• ओबेसिटी (मोटापा)

• स्मोकिंग (धूम्रपान)

• कॉर्टिकोस्टेरॉइड दवाओं का लंबे समय तक इस्तेमाल  

• कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए स्टैटिन दवाओं का इस्तेमाल

• जीवन में कभी पहले आंख की चोट या सूजन

• पहले कभी आंख की सर्जरी  

• हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी

• अधिक मात्रा में शराब का सेवन  

• हाई मायोपिया (उच्च मायोपिया)

• परिवार के इतिहास यानि आनुवंशिक ।

एक सिद्धांत यह है कि कई मोतियाबिंद आंख के लेंस में ऑक्सीडेटिव परिवर्तनों के कारण होते हैं । यह पोषण अध्ययनों द्वारा समर्थित है जो एंटीऑक्सिडेंट में उच्च फल और सब्जियां उपयुक्त मात्रा में  प्रयोग किया जाना दिखाते हैं जो कुछ प्रकार के मोतियाबिंद को रोकने में मदद कर सकते हैं ।

मोतियाबिंद की रोकथाम
हालांकि इस बारे में काफ़ी वादविवाद है कि क्या मोतियाबिंद को रोका जा सकता है, कई अध्ययनों से पता चलता है कि कुछ पोषक तत्व और पोषण संबंधी खुराक आपके मोतियाबिंद के जोखिम को कम कर सकते हैं ।

महिला स्वास्थ्यकर्मी के बड़े 10-वर्ष के अध्ययन में पाया गया कि भोजन में विटामिन ई और कैरोटीनॉयड्स ल्यूटिन और ज़ेक्सैंथिन के उच्च आहार सेवन से मोतियाबिंद के नेत्र रोग में काफी कमी आई है ।

विटामिन ई के अच्छे खाद्य स्रोतों में सूरजमुखी के बीज, बादाम और पालक शामिल हैं । ल्यूटिन और ज़ेक्सैंथिन के अच्छे स्रोतों में पालक, केल और अन्य हरी, पत्तेदार सब्जियाँ शामिल हैं ।

अन्य अध्ययनों से पता चला है कि एंटीऑक्सिडेंट विटामिन जैसे विटामिन सी और ओमेगा -3 फैटी एसिड वाले खाद्य पदार्थ मोतियाबिंद नेत्र रोग के जोखिम को कम कर सकते हैं।

मोतियाबिंद जैसे नेत्र रोग को कम करने के लिए एक और कदम आप सुरक्षात्मक धूप का चश्मा पहन सकते हैं, जो आपके बाहर होने पर सूर्य की यूवी किरणों का 100 प्रतिशत ब्लॉक कर सकते हैं ।

मोतियाबिंद का उपचार :
जब मोतियाबिंद के लक्षण दिखाई देने लगते हैं, तो आप नए चश्मे, शक्तिशाली बाईफोकल्स, आवर्धन, उचित प्रकाश व्यवस्था या अन्य दृष्टि उपकरणों  का उपयोग करके थोड़ी देर के लिए अपनी दृष्टि में सुधार कर सकते हैं ।

जब मोतियाबिंद आपकी दृष्टि को गंभीर रूप से बाधित कर चुका हो और आपके दैनिक जीवन के कार्यों में कोई बाधा उत्पन्न कर रहा हो तो मोतियाबिंद की सर्जरी के बारे में सोचें ।

बहुत से लोग खराब दृष्टि को उम्र बढ़ने का एक अपरिहार्य तथ्य मानते हैं, लेकिन मोतियाबिंद सर्जरी दृष्टि को पुनः प्राप्त करने के लिए एक सरल, अपेक्षाकृत दर्द-रहित प्रक्रिया है ।

मोतियाबिंद सर्जरी के दौरान, सर्जन आपके प्राकृतिक  क्लाउडेड (धूमिल) लेंस को हटा देगा और ज्यादातर मामलों में इसे एक स्पष्ट, प्लास्टिक इंट्राओकुलर लेंस (IOL) से बदल देगा।

नेत्र सर्जनों के लिए सर्जरी को कम जटिल बनाने और नेत्र रोगियों को अधिक मददगार बनाने के लिए न  केवल एक नए आईओएल ( IOL) विकसित किए जा रहे हैं । बल्कि नए प्रेस्बोपिया-सुधार IOLs संभावित रूप से आपको हर दूरी पर देखने में मदद करते हैं, न हीं सिर्फ एक दूरी पर । यह एक अन्य नए प्रकार के आईओएल अल्ट्राबाइयोलेट  और ब्लू लाइट की रेज़ (पराबैंगनी और नीली प्रकाश किरणों) दोनों को अवरुद्ध करता है, जैसे कि अनुसंधान से पता चलता है कि यह प्रकाश रेटिना को नुकसान पहुंचा सकता है ।

मोतियाबिंद सर्जरी के बाद आईवियर
ज्यादातर मामलों में, जब तक आप प्रेबोपिया-सुधार करने वाले आईओएल का चयन नहीं करते हैं, तब भी आपको मोतियाबिंद सर्जरी के बाद चश्में से पढ़ने की आवश्यकता होगी । आपको शेष बचे अपवर्तक त्रुटियों ( रेफरेक्टिव एर्रोर्स ) के साथ-साथ प्रेसबायोपिया को ठीक करने के लिए प्रोग्रेसिव  लेंसस की भी आवश्यकता हो सकती है ।

मोतियाबिंद सर्जरी के बाद निर्धारित चश्मे के साथ सबसे अच्छी दृष्टि और आराम के लिए, अपने ऑप्टिशियन और ऑप्टोमेट्रिस्ट से एंटी-रेफ़्लेक्टिव कोटिंग (परावर्तक विरोधी परत ) और फोटोक्रोमिक लेंस के लाभों की जानकारी ले और बताई हुई सलाह का पालन करें ।

Related Products


Leave a comment


Please login to leave a comment
Safe Payment

Pay with the world's most popular and secure payment methods.

All INDIA Delivery

We ship to over 26000+ Pin Codes in INDIA.

24/7 Help Center

Round-the-clock assistance for a smooth shopping experience.

Daily Promotion

Get best deals every day. Check out Todays Deal