Back Pain Treatment

The Modern Cause of Back Pain

Back torment isn't as phenomenal as you may might suspect. Progressively our ways of life are putting an incredible strain on our backs.

Weight and stress are very regular side effects of the frenzied lives we lead. Sadly they can add to back and neck torment as we physically and genuinely tense and round up our shoulders.

Also, we keep on working (a great deal of us) in conditions where we sit for extensive stretches of time, basically at work areas stuck to our PC. For certain individuals, sitting in a seat for 40 hours in addition to every week is the quickest method to create back agony that genuinely stings! Furthermore's, stressing that for certain individuals, they have never even experienced back torment; they have never had lower back torment, shoulder issues or neck torment, however abruptly see these manifestations going ahead. Regardless of whether the side effects don't keep going for long, they can begin influencing individuals every day.

The most noticeably awful part is that when you do get lower back torment, it can appear to be so difficult to dispose of. You take a stab at altering your stance despite everything it harms. You have a go at scouring it or kneading it or extending it rapidly - but then regardless it harms.

You take a stab at getting up and strolling around and after that it harms again ten minutes after the fact. It tends to be inconceivably disappointing.

So here are a few activities you can do right now for lower back relief from discomfort.

Activities For Your Lower Back

The basic reason is straightforward: you're encountering torment in light of constant idleness and stress and this debilitates certain muscles and fixes others. So here are two compelling activities that we know work. (Indeed, even well known superstars and expert competitors do these to deal with their back torment)

Exercise one - (Duration: 5-10 minutes)

The most effective method to do it:

Lie on your back with the two legs bowed at right edges either on a seat or square

Lay your hands on your stomach or lay with your arms out along the edge underneath shoulder level, with your palms looking up

Inhale from your stomach. Let the lower back unwind.

Hold the situation for 5-10 minutes

Exercise two

Instructions to do it:

Lie on your back with one leg laying on a seat, with your knee bowed at 90 degrees, while the other leg is broadened straight out and laying on the floor.

Ensure the two legs are lined up with your hips and shoulders

The foot of your all-encompassing leg ought to be propped upstanding to keep it from moving to the other side

Hold this situation for a couple of minutes at that point do likewise on the opposite side.

Exercise three

Ensure you move and walk regardless of whether you can just oversee 10 minutes one after another. Attempt and do a 10 moment walk 3 times each day.

10 Minutes To A Healthy Back!

Nothing can make you feel old powerless more rapidly than an apparently and suddenly terrible back. Also, in the event that you know the inclination, it's most likely little solace that four out of five grown-ups will sooner or later offer it.

However, just a little level of back issues are genuinely genuine. 80% of all lower-back agony is straightforward muscle strain. Much increasingly significant: Such torment quite often grows steadily - which means the minute your back "goes out" is the final product, not the reason. What's more, the reason, as a rule, is forever and a day of awful back propensities.

Things being what they are, what would you be able to do to buck the chances? That is what's coming up in the following couple of pages - a ten-minute, ten-move equation to keep a back issue from consistently creating. A little day by day back consideration at home, at work, in exercises can keep your back youthful for a long, long time.

A sound back remains as such from a supporting cast of solid and adaptable muscles. That is the reason this straightforward routine zeroes in key back-balancing out muscles in the middle and legs. It explicitly extends the flexors, the muscles in the front of the body that will in general get tight and short, and fortifies the extensors, the muscles in the back that will in general be underused and frail, just as the spine-supporting abs.

Results: a trimmer center and straighter stance just as spinal pain aversion and alleviation.

You'll require enough space to rests in, an activity tangle or delicate surface, a little towel, along line or belt - and ten minutes every day.

LOW-BACK LOOSENER: Lie down on your back with right leg straight. Holding your left knee toward chest with hands on back of thigh. Hold for ten seconds. Rehash on opposite side.

SIDE-OF-HIP STRETCH: Lie down on your back with right leg straight out on floor. Twist left advantage toward chest. Handle left knee with two hands and draw advantage and crosswise over body toward right shoulder. Feel stretch on outside of left hip. Hold for ten seconds. Rehash on opposite side.

FRONT-OF-BODY LENGTHENER: Lie down on stomach with hands under shoulders, and elbows bowed. Push up to gradually raise shoulders/chest fixing arms however much as could reasonably be expected while keeping hips in contact with tangle/floor. Hold for ten seconds, and make sure to relax.

FRONT-OF-HIP STRETCH: Kneel down on towel with left knee and spot two hands on right thigh and bowed before you. Holding back straight, move hips forward until you feel a stretch on front of upper left thigh. Try not to give right knee a chance to twist past right foot. Hold for ten seconds. Rehash with other leg.

BACK-OF-THIGH UNTIGHTENER: Lie down on your back. Spot a moved up towel under your lower back. Keep legs straight. Spot string or belt around impact point of right leg and gradually lift straight leg until you feel stretch toward the rear of thigh. Hold for ten seconds. Rehash with other leg.

LOWER-BACK STRENGTHENING: Lie down on back with heels near butt cheek. What's more, delicately lift rump and lower back off floor until thighs and back are in a straight line. Hold for ten seconds, and make sure to relax.

Stomach FIRMER: Lie down on back with knees twisted and heels near rear end. Arrive at hands between thighs. Breathing out, delicately twist your head and shoulders up until shoulder bones leave floor. Hold for ten seconds.

Midriff SHAPER: Lie down on left side with legs bowed at hips and knees. Lift head shoulder up until left shoulder leaves floor. Hold for ten seconds. Rehash on opposite side.

Entire BACK STRENGTHENER: Lie face-down, arms along sides. Breathe out and delicately lift shoulders and chest off tangle/floor. Hold for ten seconds, and make sure to relax.

LOWER-BACK RELEASER: Lie down on back with knees bowed, heels near rear end, bears level and arms loosened up to sides. Gradually lower your knees to left, and tenderly turn hips and lower back. Hold for ten seconds. Rehash on opposite side.

Back Pain In Hindi

पीठ दर्द दूर करने के आसान उपाय

कमर दर्द आज एक सामान्य सी बीमारी है जो अक्सर लोगों में देखी जा सकती है और सूत्रों की मानें तो भारत में करीब 60% लोग ऐसे हैं जो कभी ना कभी पीठ दर्द की समस्या का सामना करते हैं और कुछ तो ऐसे हैं जिन्हें अक्सर ही ये समस्या रहती है। पीठ दर्द यूँ तो कोई बड़ी बीमारी नहीं है लेकिन हाँ अगर दर्द लगातार रहे तो डॉक्टर से मिलना बहुत जरूरी है। वैसे कमर दर्द उम्र पर भी निर्भर करता है, सामान्य रूप से 35 से 55 की आयु में ये समस्या ज्यादा देखी जाती है। कमर दर्द मुख्य रूप से 3 तरह का होता है-

1. Postural Syndrome- गलत तरीके से बैठने या खड़े होने से हमारी रीढ़ की हड्डी में कुछ कोशिकाओं stressed यानि दब जाती हैं और कमर के नीचे दर्द होता है इसे पोस्टुरल सिंड्रोम कहते हैं।

2. Derangement Syndrome- हमारी रीढ़ की हड्डी में disc होती हैं और इन disc में एक तरल पदार्थ होता है जिसके गड़बड़ होने से दूसरे tissue(ऊतकों) पर ज्यादा प्रेशर आ जाता है, इसे ‘slipped disc’ भी कहते हैं।

3. Dysfunction Syndrome- इस तरह की समस्या हमारी मांसपेशियों, जोड़ों, स्नायु के छोटे या शिथिल हो जाने की वजह से होती है।

डॉक्टरों की मानें तो 70% से 80% कमर दर्द लोगों के सही ढंग से ना बैठने के कारण होता है।

क्यों होता है पीठ या कमर दर्द (मुख्य कारण) –

1. मानसिक रूप से तनावपूर्ण नौकरी

2. गर्भधारण

3. केवल बैठे रहने वाली जॉब

4. बढ़ती उम्र

5. बहुत ज्यादा चिंता

6. डिप्रेशन

7. मोटापा

8. ज्यादा शारीरिक व्यायाम

9. धूम्रपान

10. बैठने का ढंग सही ना होना

11. कोई ज्यादा वजन वाली चीज़ उठाना

12. गलत तरीके से सोना

13. चोट लगना आदि

कब पड़ता है रीढ़ पर दबाव

जब रीढ़ या स्पाइन सही अवस्था में नहीं रहती तो पीठ की मांसपेशियां, लिगमेंट्स और डिस्क पर अतिरिक्त दबाव पड़ता है। मजबूत मांसपेशियां रीढ़ को उचित सीध में रखती हैं और पीठ दर्द से बचाती हैं। रीढ़ के किसी भी हिस्से पर दबाव पडऩे से पीठ में दर्द हो सकता है। यह दर्द गर्दन से लेकर कमर के निचले हिस्से तक हो सकता है।

दर्द होने के कारण

रीढ़ कि हड्डी में दर्द होने के कई कारण हैं। खराब जीवनशैली, उठने-बैठने का गलत पोस्चर, उम्र बढ़ना और आनुवंशिक कारण। सिर्फ पीठ का दर्द ही नहीं बल्कि स्लिप डिस्क जैसी समस्याएं भी होती हैं।स्टडी के मुताबिक, ऑफिस में एक ही अवस्था में गलत पोस्चर में ज्यादा समय तक बैठने से पीठ, कमर या गर्दन के दर्द से जूझना पड़ सकता है। गलत कुर्सी, टाइपिंग की गलत टेक्नीक, मॉनिटर की पॉजीशन ठीक न होने, ठीक ढंग से खड़े न होने या बैठने से भी पीठ का दर्द हो सकता है।

ऐसे करें बचाव

-रीढ़ और गर्दन को सीधा रखें। लगातार झुक कर काम करने से दर्द हो सकता है।

-की-बोर्ड या टाइपराइटर पर काम करते हों तो कलाइयां सीधी रखें। कलाइयां मुडने से नसों में रक्त-संचार धीमा हो सकता है और उस पर दबाव पडने लगता है। एलबो लगभग 60 डिग्री पर मोड़ कर रखें।

-कुर्सी की ऊंचाई इतनी रखें कि पैर फर्श पर आसानी से टिकें। घुटनों को 90 डिग्री तक मोड़ कर रखें।

कमर दर्द दूर भगाने के लिए आजमाएं ये घरेलू नुस्खे

कमर दर्द की यह समस्या आजकल आम हो गई है। सिर्फ बड़ी उम्र के लोग ही नहीं बल्कि युवा भी कमर दर्द की शिकायत करते रहते हैं। कमर दर्द की मुख्य वजह बेतरतीब जीवनशैली और शारीरिक श्रम न करना है। अधिकतर लोगों को कमर के मध्य या निचले भाग में दर्द महसूस होता है। यह दर्द कमर के दोनों और तथा कूल्हों तक भी फ़ैल सकता है। बढ़ती उम्र के साथ कमर दर्द की समस्या बढ़ती जाती है। नतीजा काम करने में परेशानी । कुछ आदतों को बदलकर इससे काफी हद तक बचा जा सकता है। आज हम आप को बताते हैं कि किन घरेलू नुस्खों को अपनाकर आप कमर दर्द से निजात पा सकते हैं।

क्‍यों होता है कमर दर्द

  • मांसपेशियों पर अत्यधिक तनाव।
  • अधिक वजन।
  • गलत तरीके से बैठना।
  • हमेशा ऊंची एड़ी के जूते या सेंडिल पहनना।
  • गलत तरीके से अधिक वजन उठाना।
  • शरीर में लम्बे समय से बीमारियों का होना।
  • अधिक नर्म गद्दों पर सोना।

कमर दर्द से बचने के घरेलू उपाय

1. रोज सुबह सरसों या नारियल के तेल में लहसुन की तीन-चार कलियॉ डालकर (जब तक लहसुन की कलियां काली न हो जायें) गर्म कर लें। ठंडा होने पर इस तेल से कमर की मालिश करें।

2. नमक मिले गरम पानी में एक तौलिया डालकर निचोड़ लें। इसके बाद पेट के बल लेट जाएं। दर्द के स्थान पर तौलिये से भाप लें। कमर दर्द से राहत पहुंचाने का यह एक अचूक उपाय है।

3. कढ़ाई में दो-तीन चम्मच नमक डालकर इसे अच्छे से सेक लें। इस नमक को थोड़े मोटे सूती कपड़े में बांधकर पोटली बना लें। कमर पर इस पोटली से सेक करने से भी दर्द से आराम मिलता है।

4. अजवाइन को तवे के पर थोड़ी धीमी आंच पर सेंक लें। ठंडा होने पर धीरे-धीरे चबाते हुए निगल जाएं। इसके नियमित सेवन से कमर दर्द में लाभ मिलता है।

5. अधिक देर तक एक ही पोजीशन में बैठकर काम न करें। हर चालीस मिनट में अपनी कुर्सी से उठकर थोड़ी देर टहल लें।

6. नर्म गद्देदार सीटों से परहेज करना चाहिए। कमर दर्द के रोगियों को थोड़ा सख्ते बिस्तर बिछाकर सोना चाहिए।

7. योग भी कमर दर्द में लाभ पहुंचाता है। भुन्ज्गासन, शलभासन, हलासन, उत्तानपादासन, श्वसन आदि कुछ ऐसे योगासन हैं जो की कमर दर्द में काफी लाभ पहुंचाते हैं। कमर दर्द के योगासनों को योगगुरु की देख रेख में ही करने चाहिए।

8. कैल्शियम की कम मात्रा से भी हड्डियां कमजोर हो जाती हैं, इसलिए कैल्शियमयुक्त चीजों का सेवन करें।

9. कमर दर्द के लिए व्यायाम भी करना चाहिए। सैर करना, तैरना या साइकिल चलाना सुरक्षित व्यायाम हैं। तैराकी जहां वजन तो कम करती है, वहीं यह कमर के लिए भी लाभकारी है। साइकिल चलाते समय कमर सीधी रखनी चाहिए। व्यायाम करने से मांसपेशियों को ताकत मिलेगी तथा वजन भी नहीं बढ़ेगा।

10. कमर दर्द में भारी वजन उठाते समय या जमीन से किसी भी चीज को उठाते समय कमर के बल ना झुकें बल्कि पहले घुटने मोड़कर नीचे झुकें और जब हाथ नीचे वस्तु तक पहुंच जाए तो उसे उठाकर घुटने को सीधा करते हुए खड़े हो जाएं।

11. कार चलाते वक्त सीट सख्त होनी चाहिए, बैठने का पोश्चर भी सही रखें और कार ड्राइव करते समय सीट बेल्ट टाइट कर लें।

12. ऑफिस में काम करते समय कभी भी पीठ के सहारे न बैठें। अपनी पीठ को कुर्सी पर इस तरह टिकाएं कि यह हमेशा सीधी रहे। गर्दन को सीधा रखने के लिए कुर्सी में पीछे की ओर मोटा तौलिया मोड़ कर लगाया जा सकता है।

Back Pain के लिए आयुर्वेदिक दवा Chaturbhuj oil For Pain Relief

Related Products


  Dr. Ortho Oil:Joints pain, back ache, muscular sprain, arthritis, stiffness of joints,...
SKU:
#5-p000223
Vendor:
Vendor 3
Type:
Type 3
Availability:
In-Stock
₹590.00
Indian Ayurvedic Traditions Chaturbhuj oil/tel is uniquely effective remedy for joint pains now matt...
SKU:
#5-Chatarbhuj001
Vendor:
Vendor 3
Type:
Type 3
Availability:
In-Stock
₹297.00

Leave a comment


Please login to leave a comment
Safe Payment

Pay with the world's most popular and secure payment methods.

All INDIA Delivery

We ship to over 26000+ Pin Codes in INDIA.

24/7 Help Center

Round-the-clock assistance for a smooth shopping experience.

Daily Promotion

Get best deals every day. Check out Todays Deal